फिल्म की शूटिंग कैसे होती है?

आपने बॉलीवुड, हॉलीवुड, भोजपुरी और साउथ फिल्म इंडस्ट्री की बहुत सारी एक्सन, ड्रामा, अडवेंचर और थ्रिलर फिल्मे देखी होगी, लेकिन क्या आपने कभी सोचा है, की फिल्मों की शूटिंग कैसे होती है(How are films shot) और इन फिल्मों के शूटिंग के लिए फिल्म मेकर्स को कितनी मेहनत करनी पड़ती है? और इसमे कितना खर्चा होता है?
अगर नहीं पता तो चलिये जानते है-

बॉलीवुड फिल्मों की शूटिंग कैसे की जाती है,How are Bollywood films shoot.

चाहे बॉलीवुड फिल्म हो या हॉलीवुड फिल्म सभी तरह की फिल्मों की शूटिंग मे और फिल्म बनाने मे बहुत ही ज्यादा मेहनत करनी होती है। जिसके बारे मे आप अनुमान भी नहीं लगा सकते है। 

एक पूरी फिल्म मे बहुत सारे सीन होते है, जिसके लिए  अलग-अलग तरीको से शूटिंग करनी होती है।एक पूरी फिल्म की शूटिंग मे कई महीने या कई साल लग जाते है तो आप अनुमान लगा सकते एक फिल्म को बनाने के लिए क्या-क्या करना पड़ता है। 

1.एक्शन सीन की शूटिंग कैसे होती है?


किसी फिल्म मे एक्शन सीन की शूटिंग करने के लिए स्टंट मैन(Stunt Man) और एक्शन डाइरेक्टर(Action Director) का मुख्य रोल होता है। एक्शन डाइरेक्टर किसी एक्शन सीन को कैसा करना है, इस बात को निश्चित करता है। और एक स्टंट मैन इन खतरनाक सीन को खुद करता है।

एक्शन सीन की शूटिंग कैसे होती है?

आपने देखा होगा की जब एक्टर गुंडो से लड़ता है, उनके साथ मारपीट करता है, तो एक मुक्के मे ही गुंडे उड़ते हुये दिखाई देते है। तो इस तरह के सीन मे सामने वाले विल्लन को रस्सियों से बांध दिया जाता है, और जब कोई एक्टर किसी गुंडे को मारता है तो उसे क्रेन की सहायता से ऊपर खींच लिया जाता है, लेकिन फिल्मों मे इस तरह के सीन से रस्सियों को कम्प्युटर सॉफ्टवेर के माध्यम से हटा दिया जाता है। 

और इस तरह से बहुत सारी काटा पिटी(Editing) के बाद एक धमाकेदार एक्शन सीन तैयार होता हैं।

2.फिल्म में गाने की शूटिंग कैसे होती है?


फिल्मों मे गानों की शूटिंग(Song Shot) के लिए गाने तो पहले से ही रेकॉर्ड कर लिए जाते है, जिसमे की इतना टाइम नहीं लगता है। लेकिन जब एक्टर्स के साथ गाने की लाइव विडियो शूट की जाती है, तो उसमे काफी टाइम भी लगता है, और एक बड़ा सा बजट भी।

गाने की शूटिंग कैसे होती है?

जब किसी भी जगह गाने की शूटिंग होती है, चाहे वो विदेश मे हो या अपने देश मे, तो जिस स्थान (Location) पर वो शूटिंग होती है, तो वहाँ के आस-पास के लोग बड़ी मात्रा मे शूटिंग देखने आते है। तो इतनी सारी भीड़ को नियंत्रित करते हुये शूटिंग करना भी एक्टर्स और मेकर्स के लिए एक बड़ी चुनौती है।

गाने की शूटिंग मे कितना खर्चा आता है?


किसी भी गाने की पूरी शूटिंग किसी भी एक जगह(Location) पर नहीं की जा सकती, क्योंकि अगर सारे गाने की शूटिंग को एक ही जगह निपटा दिया जाए, तो यह देखने मे उतना अच्छा नहीं लगता।


आजकल के जो भी गाने आते है, उनमे अधिकतर शूटिंग की जगह (Location) विदेशो मे होती है, तो इस प्रकार अपनी पूरी टीम को एक देश से दूसरे देश ले जाना, और उनके रहने का खाने पीने का ध्यान रखना।
इन सब के लिए करोड़ो रुपए चाहिए होते है।

लेकिन अब वीएफ़एक्स और सीजीआई जैसी तकनीक ने अब बहुत कुछ आसान कर दिया है, क्योकि इनकी मदद से किसी भी तरह की शूटिंग लोकेशन और किसी भी तरह का सेट तैयार हो जाता है, और ये सारा काम कम्प्युटर सॉफ्टवेर की मदद से ही पूरा हो जाता है।

लेकिन अब भी काफी सारे मेकर्स अलग-अलग स्थानो पर जाकर ही गानों की शूटिंग करना पसंद करते है।

3.फिल्मों मे पहाड़ और झरनो की शूटिंग कैसे होती है?


आपने बाहुबली फिल्म तो देखी ही होगी, उसी फिल्म की सहायता से जानते है, की आखिर फिल्मों मे पहाड़, झरने आदि को कैसे दिखाया जाता है।

फिल्मों मे पहाड़ और झरनो की शूटिंग कैसे होती है?

फिल्मों मे पहाड़ और झरने की शूटिंग करने के लिए पहले एक्टर के एक्टिंग की शूटिंग कर ली जाती है और एक्टर के पीछे किसी हरे या नीले पर्दे को रखा जाता है, जिससे बाद मे उस पीछे के बैक्ग्राउण्ड(Green screen) को हटाकर वहाँ मैन चाहा सीन जोड़ा जाता है। यह सब करने के लिए विएफएक्स तकनीक का इस्तेमाल किया जाता हैं.

इसके बाद जब सीन की शूटिंग पूरी हो जाती है, तो वीएफ़एक्स सॉफ्टवेर के माध्यम से कम्प्युटर मे एक्टर के पीछे के पर्दे के  सीन को हटा दिया जाता है, और उसके स्थान पर वो सीन जोड़ दिया जाता है, जिसकी की फिल्म मे मांग है, इस प्रकार एक्टर के पीछे किसी भी सीन को जोड़ दिया जाता है, चाहे वह कोई महल, पहाड़ , झरना यो कोई भी और सीन क्यो न हो।

4.फिल्मों मे गोली मारने की शूटिंग कैसे होती है?


फिल्मों मे गोली मारने के सीन को शूट करने के लिए भी काफी मेहनत लगती है। जिस आदमी को गोली मारनी होती है, उसके कपड़ो मे पहले से ही कोई नकली खून से भरी कोई चीज छुपा दी जाती है, और जब सामने वाला गोली मारता है, तो उस  नकली खून को दिखाया जाता है।

फिल्मों मे गोलीबारी के सीन को फिल्माने के लिए बहुत सी नकली बंदूकों का इस्तेमाल होता है, और जब सीन तैयार हो जाता है, तो उस सीन मे कम्प्युटर सॉफ्टवेर के माध्यम से बंदूक से गोली की आवाज़ और गोली को बाद मे जोड़ा जाता है। और इन सब को जोड़कर गोलीबारी का सीन तैयार होता है। 

5.फिल्मों मे रोमांटिक सीन की शूटिंग कैसे होती है?


फिल्मों मे रोमांटिक सीन को शूट करना इतना आसान नही होता जितना की लगता है। एक रोमांटिक सीन की शूटिंग के लिए पहले फिल्म मेकर खुद इन सीन को करके दिखाते है, जिससे एक्टर्स को आसानी से समझ आ सके और वो उन्हे फॉलो कर सके।

romantic scene shooting in movies

रोमांटिक सीन के बारे मे  फिल्म के डाइरेक्टर और उनकी टीम पहले से ही सोच लेती है, की इस सीन को कैसे दिखाया जाएगा। 
रोमांटिक सीन के लिए एक्टर्स को छोटी-छोटी बातों का ध्यान रखना पड़ता है, अगर किसी सीन मे कोई छोटी से चूक हो जाए तो वो सारा सीन उन्हे दुबारा करना पड़ता है।

Previous Post Next Post

-विज्ञापन-

-विज्ञापन-