लगातार मेहनत ओर निष्ठा के कारण पहली बार मे नवनीत को मिला IAS का पद, आइये जानते है उनकी पूरी स्ट्रेटजी |

 IAS NAVNNET MANN SUCCESS STORY: नवनीत मान हमेशा से  ही आईएएस(IAS)  बनना चाहती  थी, नवनीत ने UPSC परीक्षा का निर्णय ग्रेजुएसन के फ़ाइनल इयर मे ही कर  लिया था, ओर अपनी लगातार मेहनत ओर सच्ची  निष्ठा के कारण उन्होने पहली बार मे ही आईएएस का पद हासिल कर लिया | नवनीत ने सन 2019 की यूपीएससी परीक्षा मे 33 वी रैंक के साथ टॉप किया | दिल्ली नॉलेज ट्रैक द्वारा लिए गए  इंटरव्यू मे नवनीत मान ने अपनी सफलता की मुख्य बातें शेअर  की, आइये जानते है इनके आईएएस बनने के सफर मे क्या क्या हुआ|

IAS Navneet mann sucees story
आईएएस से पहले इंजीनियर थी नवनीत मान -

नवनीत मान ने अपनी 12वीं कक्षा  की पढ़ाई पूरी करने के बाद इंजीनियर की परीक्षा दी ओर पहली बार मे उनका सेलेक्सन भी हो गया| सेलेक्सन होने के बाद नवनीत ने दिल्ली शहर मे कम्प्युटर इंजीनियरिंग  से अपनी  ग्रेजुएसन पूरी की | मुख्य रूप से नवनीत की अधिकतम पढ़ाई दिल्ली मे पूरी हुयी क्योंकि उनके पिताजी दिल्ली मे नौकरी किया करते थे,हालांकि नवनीत का परिवार पंजाब का रहने वाला है |
नवनीत के पिताजी चाहते थे की उसका(नवनीत) ध्यान सिविल सेवाओ की ओर करे, अपने पिताजी के कहने के कारण ही नवनीत ने अपने ग्रेजुएसन के आखिरी वर्ष मे यूपीएससी परीक्षा देने का मन बनाया था |

पहले अटेम्प मे हुआ सेलेक्सन-

नवनीत ने जब अपनी ग्रेजुएसन पूरी की तो उसके एक साल बाद सन 2018 मे उन्होने अपना पहला अटेम्प दिया ओर इसी पहले अटेम्प मे वे चयनित हो गयी, ओर इस पहले  अटेम्प मे उन्हे 501 नंबर रैंक मिली ओर उन्हे डिफेंस अकाउंट service दी गयी| ये जॉब मिलने के बाद भी नवनीत खुश नहीं थी, क्योंकि उन्होने तो आईएएस बनने का सोचा था ओर वे आईएएस की जॉब ही पाना चाहती थी,इसलिए नवनीत ने दूसरा अटेम्प देने का सोचा| सन 2019 मे नवनीत ने दूसरा अटेम्प दिया ओर उन्हे इस बार अपने मन मुताबिक रैंक ओर जॉब मिली| नवनीत ने बताया की उनके पिताजी ने उन्हे हमेशा प्रेरणा दी थी ओर इसी कारण से उन्होने आईएएस का पद प्राप्त किया| 


नवनीत ने बताया की सौर्स हमेशा कम रखे 

नवनीत मन ने इंटरव्यू मे बताया की तैयारी करते समय किताबें हमेशा सीमित रखनी चाहिए क्योंकि परीक्षा से पहले सिलैबस के एक बार दोहराना भी होता है, इसलिए जो जरूरी है केवल उसी पर ध्यान दे अनावश्यक किताबे एकत्रित करने से केवल आपका टाइम बर्बाद होगा ओर कुछ नहीं | लेकिन जो भी जितना भी आपके पास हो उसे इतना अछे तरीके से याद कर ले की जब पेपर मे उससे संबन्धित कुछ आए तो आपका ज्यादा सोचना न पड़े ओर ओर तुरंत उसका जवाब दे देवें|

दूसरी ओर आवशक बात ये है की अपने सिलैबस के हिसाब से जरूरी नोट्स जरूर बनाए जिससे की रिविज़न करते समय आसानी हो, क्योंकि परीक्षा से पहले अपने सिलैबस का रिविज़न करता बहुत ही जरूरी ओर उपयोगी है, नवनीत का मानना है की पहले अटेम्प मे उन्होने यही गलती की थी, जिसका उन्हे काफी अफसोस हुआ | नवनीत का मानना है की आईएएस की परीक्षा मे रिविज़न आपकी सफलता मे बहुत ही उपयोगी भूमिका अदा करता है |


Previous Post Next Post